WELCOME

Friday, December 31, 2010

नए साल में


11:11:11:1:1:11
साहेबान, ये देखिए
एक के अंक का निराला खेल
नए साल के पहले दिन तारीख लिखी जाएगी
1-1-11
और तारीख बदलते ही, एक घंटे, 11 मिनट और 11 सैकेंड बाद
1:11:11:1:1:11
एक का अंक 9 बार नज़र आएगा.
और इस तारीख में दोपहर 11 बजकर 11 मिनट और 11 सैकेंड पर एक के अंक का ये संयोग 10 बार बना है
11:11:11:1:1:11
अब यही संख्या, 11 नवंबर को दोपहर के समय 12 बार दोहराई जाएगी
11:11:11:11:11:11
है न कितना अदभुत
********************
अब हाज़िर हैं, क़ताअत

एकता की कर रही है पेश क़ुदरत भी मिसाल
देखिए संदेश कितना नेक है नए साल में
भूलकर शिकवे-गिले ऐसे चलो सब एक हों
’एक’ के आगे लगा ज्यों ’एक’ है नए साल में
*********************************

आएं हंसने मुस्कुराने के बहाने बार बार
हर बशर नए साल हर दिन पाए ये खुशियां हज़ार
ज़िन्दगी भर के लिए ये रंज-ओ-ग़म सब दूर हो
 दिल के गुलशन में हों उल्फ़त की बहारें बेशुमार
**********************************

आओ मिल-जुल के चलें साथ नई राहों पर
नई खुशियां नये सपने नई उम्मीद लिये
हो नये साल की हर रात दीवाली शाहिद
है दुआ रब ये कि दिन आयें सभी ईद लिये
********************************
अम्न हो नये साल हर दिन चैन हो आराम हो
शाम जाते साल की सब रंज-ओ-गम की शाम हो
आपने देखें हैं जो सपने वो पूरे हों सभी
आपका हर आरज़ू हर चाहतों पर नाम हो

                                 शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

37 comments:

shikha varshney said...

आमीन....
नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनायें आपको .

deepak saini said...

बहुत खूब शेर है
आपको नव वर्ष की हृार्दिक शुभकामनाये

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूबसूरत ....

नव वर्ष की शुभकामनाएं

फ़िरदौस ख़ान said...

आओ मिल-जुल के चलें साथ नई राहों पर
नई खुशियां नये सपने नई उम्मीद लिये
हो नये साल की हर रात दीवाली शाहिद
है दुआ रब ये कि दिन आयें सभी ईद लिये

बेहतरीन...
आपको नया साल बहुत-बहुत मुबारक हो...

इस्मत ज़ैदी said...

आएं हंसने मुस्कुराने के बहाने बार बार
हर बशर नए साल हर दिन पाए ये खुशियां हज़ार
ज़िन्दगी भर के लिए ये रंज-ओ-ग़म सब दूर हो
दिल के गुलशन में हों उल्फ़त की बहारें बेशुमार
**********************************
एक का खेल तो अद्भुत और निराला है ही ,कलाम भी कुछ कम नहीं ,ख़ास तौर पर ये क़ता
ख़ुदा आप की सारी दिली दुआओं और तमन्नाओं को पूरा करे (आमीन)

daanish said...

आपकी हर दुआ में
हम सब भी शामिल हैं ....

नव वर्ष 2011 के लिए
ढेरों मंगल कामनाएं .

सुलभ § Sulabh said...

बहुत ख़ूबसूरत...
ऐसे अंको में मेरी भी बहुत दिलचस्पी होती है.
शुभ संदेशो से भरी आपकी पोस्ट.
शुक्रिया शाहिद जी.
नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!!

kshama said...

अम्न हो नये साल हर दिन चैन हो आराम हो
शाम जाते साल की सब रंज-ओ-गम की शाम हो
आपने देखें हैं जो सपने वो पूरे हों सभी
आपका हर आरज़ू हर चाहतों पर नाम हो
Kitni pyari dua hai!
Yahi dua aap bhee qubool karen!

संजय भास्कर said...

नववर्ष पर हार्दिक शुभकामनाये और बधाई ..

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA said...

आपको नववर्ष 2011 मंगलमय हो ।
ब्लाग पर आना सार्थक हुआ ।
काबिलेतारीफ़ है प्रस्तुति ।
आपको दिल से बधाई ।
ये सृजन यूँ ही चलता रहे ।
साधुवाद...पुनः साधुवाद ।
satguru-satykikhoj.blogspot.com

: केवल राम : said...

बहुत खूब ...अंदाज -ए- वयां पसंद आया

: केवल राम : said...

आदरणीय Shahid Mirza जी
आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें...स्वीकार करें

नीरज गोस्वामी said...

ज़िन्दगी भर के लिए ये रंज-ओ-ग़म सब दूर हो
दिल के गुलशन में हों उल्फ़त की बहारें बेशुमार

आमीन...शाहिद भाई नए साल पर इस से बेहतर दुआ और क्या होगी...

आप और आपके परिवार को नए साल की मुबारक बाद देता हूँ...

नीरज

ज्योति सिंह said...

आओ मिल-जुल के चलें साथ नई राहों पर
नई खुशियां नये सपने नई उम्मीद लिये
हो नये साल की हर रात दीवाली शाहिद
है दुआ रब ये कि दिन आयें सभी ईद लिये
behad umda khyaal ,aese hi nek irado se bhara ho aane wala saal .aapko nav barsh ki bahut saari badhaiyaan .

वन्दना अवस्थी दुबे said...

"एकता की कर रही है पेश क़ुदरत भी मिसाल
देखिए संदेश कितना नेक है नए साल में
भूलकर शिकवे-गिले ऐसे चलो सब एक हों
’एक’ के आगे लगा ज्यों ’एक’ है नए साल में"

बहुत सुन्दर अभिलाषाएं हैं शाहिद जी. बीती बातों को भुला के,नये साल में नई शुरुआत होनी ही चाहिए.
नये वर्ष की अनन्त-असीम शुभकामनाएं.

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

bahut hi khubsurat bhawnaayen!
naye warsh ki dher saari shubhkaamnaayen !
-gyanchand marmagya

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

shahid ji,
naye saal ki mubarakbaad kabul farmaayen.
-gyanchand marmagya

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

हर पंक्ति लाजवाब !
मंगलमय नववर्ष और सुख-समृद्धिमय जीवन के लिए आपको और आपके परिवार को अनेक शुभकामनायें !

kshama said...

Bahut badhiya sher!
Naya saal bahut mubarak ho!

Kunwar Kusumesh said...

नए साल की हार्दिक शुभकामनायें

शारदा अरोरा said...

दिल गद-गद हो गया दुआओं को पढ़ कर ..
नया साल मुबारक हो ..

rashmi ravija said...

आओ मिल-जुल के चलें साथ नई राहों पर
नई खुशियां नये सपने नई उम्मीद लिये
हो नये साल की हर रात दीवाली शाहिद
है दुआ रब ये कि दिन आयें सभी ईद लिये

बस ये दुआ कामयाब हो
नव-वर्ष की ढेरो शुभकामनाएं

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब शाहिद साहब ... ये गणित का खेल भी कमाल का है ... और अप लिखा भी ...
आपको और आपके समस्त परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो ...

निर्मला कपिला said...

एकता की कर रही है पेश क़ुदरत भी मिसाल
देखिए संदेश कितना नेक है नए साल में
भूलकर शिकवे-गिले ऐसे चलो सब एक हों
’एक’ के आगे लगा ज्यों ’एक’ है नए साल में
शाहिद जी नये साल मे बहुत ही सुन्दर सन्देश दिया है। आज इसी सन्देश की जरूरत भी है। आपको सपरिवार नये साल की हार्दिक शुभकामनायें।

Dr. Ashok palmist blog said...

बहुत लाजबाव शेअर है.............. 1 के अंक का अच्छा सँयोग बताया आपने शाहिद जी । बहुत बहुत आभार !

आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायेँ ।

-: VISIT MY BLOG :-

" खुदा से भी पहले हमेँ याद आयेगा कोई..........गजल "

pukhraaj said...

ekta ka ye anokha khel tou hamne dekh liya tha ... par isko kudrat ka sandesh ya kahe ki uska ishara hai ki insaan ko isse sabak mile .. aisa tou bas aapne hi socha .. achcha laga ... kaabil-e-taarif hai ...

विजय प्रताप सिंह राजपूत (निकू ) said...

जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें ...

हरकीरत ' हीर' said...

एकता की कर रही है पेश क़ुदरत भी मिसाल
देखिए संदेश कितना नेक है नए साल में
भूलकर शिकवे-गिले ऐसे चलो सब एक हों
’एक’ के आगे लगा ज्यों ’एक’ है नए साल में

एक के आगे एक वाली बात खूब कही शाहीद जी ...
सच है ये साल अनोखा है .....
अब देखना है क्या रंग लाता है .....

गौतम राजरिशी said...

अंकों का अद्‍भुत संयोग है ये तो...

नये साल की हार्दिक शुभकामनायें शाहिद जी! आपके अशआर, आपकी लेखनी और आप यूँ ही चमकते रहें हमें, अपने पाठकों को इसी तरह चमत्कृत करते रहें आप!

गौतम राजरिशी said...

अंकों का अद्‍भुत संयोग है ये तो...

नये साल की हार्दिक शुभकामनायें शाहिद जी! आपके अशआर, आपकी लेखनी और आप यूँ ही चमकते रहें हमें, अपने पाठकों को इसी तरह चमत्कृत करते रहें आप!

लता 'हया' said...

दुआओं के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ,
हमें 1 1..के अंकों में उलझा कर ख़ुद जनाब ने 1 के बाद 1 ,,,
वाह ,क्या क़तआत कहे हैं साले -नौ पर एक से बढ़ कर १
आप भी ब्लॉग जगत में एक ही शाहिद हैं ..

रश्मि प्रभा... said...

अम्न हो नये साल हर दिन चैन हो आराम हो
शाम जाते साल की सब रंज-ओ-गम की शाम हो
आपने देखें हैं जो सपने वो पूरे हों सभी
आपका हर आरज़ू हर चाहतों पर नाम हो
isse badhkar dua aur kya hogi , maine bhi apne haath utha liye hain ibadat ke liye

सुनील गज्जाणी said...

नमस्कार !
नव वर्ष कि आप का बहुत बहुत बधाई ,
'' एक के '' अंक '' को प्रस्तुत करना अच्छा लगा , नयी जानकारी हमे मिली जो सोचा नहीं था , साधुवाद इस के लिए , ’एक’ के आगे लगा ज्यों ’एक’ है नए साल में चारो रूप अच्छे लगे , शुक्रिया

देवेन्द्र पाण्डेय said...

बहित खूब।

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

आपके कताअत एक से बढ़ कर एक हैं !

सुन्दर भावों और संदेशों का गुलदस्ता इतनी खूबसूरती से सजाया है जिसका जवाब नहीं !

-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

आदरणीय भाईजान शाहिद मिर्ज़ा साहब
सस्नेहाभिवादन !
नव वर्ष पर शानदार क़त्आत के लिए मुबारकबाद ! सभी एक से बढ़कर एक हैं !

आपकी लेखनी से निकले लफ़्ज़ तो हमेशा ही गौहर हो जाते हैं … क्या बात है !

~*~नव वर्ष २०११ के लिए आपको स्वजनों सहित हार्दिक मंगलकामनाएं ! शुभकामनाएं !! ~*~

शुभकामनाओं सहित
- राजेन्द्र स्वर्णकार

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

शाहिद जी, आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

---------
पति को वश में करने का उपाय।
मासिक धर्म और उससे जुड़ी अवधारणाएं।