WELCOME

Sunday, February 20, 2011

दिल का पागलपन देखा है





हज़रात,
कोई तम्हीद नहीं...
बस एक सादा सी ग़ज़ल हाज़िर है

यादों का जब वन देखा है
सांसों में चंदन देखा है
 
तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
 
पहले तुमको देखा, और फिर
दिल का पागलपन देखा है
 
तुममें खुद को देखा अकसर
जब देखा, दरपन देखा है
 
तुम चाहो तो रंग भर जाएं
मैंने इक स्वप्न देखा है
 
मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है
 
सूरज को देखा, तो खुद की
हिम्मत पर यौवन देखा है
 
प्रेम में भीगे कब से बैठे.
लेकिन अब सावन देखा है
 
प्यार से जिसने सींचा ’शाहिद’
उसका दिल उपवन देखा है


शाहिद मिर्ज़ा शाहिद


58 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मन को खुश कर दिया आपकी गज़ल ने ..उपवन की तरह महकती हुई खूबसूरत गज़ल ..

अरुण चन्द्र रॉय said...

बहुत उम्दा ग़ज़ल.. हर शेर जानदार !

अमिताभ मीत said...

क्या बात है ! लाजवाब !!

अमिताभ मीत said...

क्या बात है ! लाजवाब !!

रश्मि प्रभा... said...

प्रेम में भीगे कब से बैठे.
लेकिन अब सावन देखा है
... bahut hi khoobsurat khyaal

Dr. Ashok palmist blog said...

बहतरीन गजल.......... प्रत्येक शेअर लाजबाव । आभार शाहिद भाई !

" सितारा कहूँ क्यूँ ? चाँद है तू मेरा.........गजल "

इस्मत ज़ैदी said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

पहले तुमको देखा, और फिर
दिल का पागलपन देखा है
ख़ूबसूरत मतले से आग़ाज़ और दिल को छू लेने वाले इन अश’आर के साथ ग़ज़ल अपना सफ़र तय करती हुई जब

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है

इस मासूम से शेर पर पहुंचती है तो क़ारी को रुकने और बार बार पढ़ने पर मजबूर कर देती है

सूरज को देखा, तो खुद की
हिम्मत पर यौवन देखा है
हौसले का शेर
उम्दा ग़ज़ल के लिए मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाएं

Dr. Ashok palmist blog said...

बहतरीन गजल.......... प्रत्येक शेअर लाजबाव । आभार शाहिद भाई !

" सितारा कहूँ क्यूँ ? चाँद है तू मेरा.........गजल "

Deepak Saini said...

वाह मिर्जा साहब वाह
हर शेर लाजवाब है
प्रेम के भीगे कब से बैठे
लेकिन अब सावन देखा है
वाह वाह वाह

Deepak Saini said...

वाह मिर्जा साहब वाह
हर शेर लाजवाब है

प्रेम के भीगे कब से बैठे
लेकिन अब सावन देखा है

वाह वाह वाह

Kunwar Kusumesh said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

वाह वाह शहिद जी,बड़ी सादगी से बेहतरीन और बड़ी बात कह दी आपने.
आपका निम्न शेर दुबारा आपका ध्यान आकर्षित कर रहा है, पढियेगा.

तुम चाहो तो रंग भर जाएं
मैंने इक स्वप्न देखा है

sagebob said...

बहुत उम्दा ग़ज़ल.

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

आपकी की कलम की रवानगी को सलाम

वन....चन्दन.......मन....पागलपन......दर्पण.......स्वप्न.....बचपन......यौवन ......सावन...... उपवन.

आप तो ग़ज़ल में भी नज़्म कह जातें हैं.

वन्दना अवस्थी दुबे said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
सबसे अहम चीज़ तो मन ही है. उसे ही देखना तो ज़रूरी होता है. बहुत सुन्दर ग़ज़ल.

kshama said...

तुम चाहो तो रंग भर जाएं
मैंने इक स्वप्न देखा है

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है
Waise to sabhee ashaar ekse badhke ek hain.....ye masoomiyat bahut bha gayi!

***Punam*** said...

"तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है !!"



देखने वाले भी न जाने क्या-क्या देख लेते हैं

एक हम हैं कि बस दिल से ही दिल देख लेते हैं...



बहुत खूब....!!!

ज्योति सिंह said...

gazal ke harek shabd khoobsurat, main to sochti rahi kise khas kahoon ,har baat aham thi ,chahe wo sawan me bhigna ho ,bhitar ka man ho ,swapn me rang bharne ki baat ho ya bachpan aur yauvan ki jhalak ho,in sabhi bhavo ne milkar aasadharan bana diya aapki rachna .bahut hi shaandaar .

Shah Nawaz said...

बेहद खूबसूरत ग़ज़ल... बेहतरीन!

daanish said...

वाह ,,, शाहिद भाई !
बहुत ही सादा अंदाज़ में
बहुत ही खूबसूरत अश`आर कह डाले है आपने
तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
और
मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है
इन दो शेरों पर तो मानो कुर्बान हो जाने का मन है जनाब !!
ग़ज़ल में सादगी ही ग़ज़ल की जान है
मुबारकबाद .

नीरज गोस्वामी said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है

प्यार से जिसने सींचा ’शाहिद’
उसका दिल उपवन देखा है

शाहिद भाई...बहुत दिनों बाद आपकी ग़ज़ल पढने को मिली...दिल बाग़ बाग़ हो गया...बहुत बेहतरीन खूबसूरत हसीन ग़ज़ल कही है आपने...दिली दाद कबूल करें...

नीरज

rashmi ravija said...

तुम चाहो तो रंग भर जाएं
मैंने इक स्वप्न देखा है

आमीन :)
बड़ी ख़ूबसूरत ग़ज़ल है

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

शाहिद भाई, आपका जवाब नहीं। बधाई।

---------
ब्‍लॉगवाणी: ब्‍लॉग समीक्षा का एक विनम्र प्रयास।

सुनील गज्जाणी said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है

प्यार से जिसने सींचा ’शाहिद’
उसका दिल उपवन देखा है

शाहिद भाई साब .प्रणाम ! बहुत दिनों बाद आपकी ग़ज़ल पढने को मिली.बहुत बेहतरीन खूबसूरत हसीन ग़ज़ल कही है आपने.दिली दाद कबूल करें.!

Vijay Kumar Sappatti said...

shahid bhai , aaj to dil ko jala diya hai , kya kahun do -teen baar padh chuka hoon , tujhe dekha phir dil ka paagalpan dekha .. waah waah

sir salaam kabul kare...

बधाई

-----------

मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .

आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.

"""" इस कविता का लिंक है ::::

http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html

विजय

manu said...

पहले तुमको देखा, और फिर
दिल का पागलपन देखा है
बहुत ही प्यारा शे'र लगा जी..


तुममें खुद को देखा अकसर
जब देखा, दरपन देखा है

वाह वाह....

साँसों में चन्दन देखा है...सही फरमाया...यादों के वन में पहुँचने के बाद सांस सांस चन्दन हो जाति है...

दिगम्बर नासवा said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है ..

बहुत खूब ... सरल दिल वाले सरल दिल को ही देखते हैं ...
बहुत ही सीधी, सच्ची और दिल में उतार जाने वाली ग़ज़ल है .... बेमिसाल है हर शेर ...

रजनीश तिवारी said...

हमने इन लाइनों में बेहतरीन शायर देखा है । बहुत सीधा सरल अंदाज़ बहुत अच्छी गज़ल !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22- 02- 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

shikha varshney said...

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है

मासूम गज़ल.
बहुत प्यारी सरल प्यारी अभिव्यक्ति.

अजय कुमार said...

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है

बहुत सुंदर भाव

राज शिवम said...

बहुत ही खुबसुरत प्रस्तुति......

हरकीरत ' हीर' said...

यादों का जब वन देखा है
सांसों में चंदन देखा है

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है

पहले तुमको देखा, और फिर
दिल का पागलपन देखा है

ये तीन शेर तो दिल ले गए शाहिद जी .....
इतने सीधे साढ़े शब्दों में वह कोमलता ,वह सादगी,वह खुशबू है जो दिल ले सके ....
आप तो हमें सिखाते सिखाते मझधार में ही छोड़ गए .....

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

मेरे दिल में झांकने वाले
कहते हैं, बचपन देखा है
बेमिसाल पंक्तियाँ..... सुंदर रचना

Kailash C Sharma said...

बहुत सुन्दर महकती हुई गज़ल..लाज़वाब

ज्योति सिंह said...

main phir se padhne aa gayi ,ek geet ki gungunati jaa rahi hoon is gazal ko ,kuchh line bhool rahi thi use hi yaad karne aa gayi ,vandana ke ghar gayi to wahan bhi hum dono aapki rachna par charcha kar rahe the ,jahan se utar nahi rahe shabd ek superhit gane ki tarah .laazwaab .pahle sochi chupke se padhkar chal doon ,magar tarif likhe bina nahi raha gaya .jab tak poori tarah kanthasth na ho aati rahoongi .

सुमन'मीत' said...

shahid ji
bahut dino baad aapki gazal padhne ko mili ...bahut sundar ..har sher lajwab

Manav Mehta said...

sundar rachna...

pran said...

GAZAL KE SABHEE SHER BADE MANOYOG
SE PADH GAYAA HOON . ADHIKAANSH
SHER SAADGEE LIYE HUE HAIN .
URDU MEIN EK SHABD HAI - AAMAD
YANI BHAAV KAA APNE AAP AANAA .
AAPKEE GAZAL KO AAMAD KAHUN TO
KOEE ATISHYOKTI NAHIN HAI .

निर्मला कपिला said...

शाहिद जी कल आपको याद कर रही थी कि बहुत दिन से आपकी गज़ल नही पढी तो सोचा कि शायद मै ही ब्लाग देख नही पाई। मगर आपने लिखा ही देर बाद।
तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
सरल शब्दों मे सुन्दर बात। बहुत अच्छी लगी ये गज़ल भी। शुभकामनायें।

Ravi Rajbhar said...

bahut umda gazal hai...
badhai swikare.

तिलक राज कपूर said...

आपने जो जो देखा बड़ी बारीकी से देखा और उतनी ही बारीकी से प्रस्‍तुत किया है।

हमने तो अश्‍आर में तेरे
ग़ालिब जैसा फ़न देखा है।

तिलक राज कपूर said...

मेरी टिप्‍पणी में सौती काफि़या प्रयोग किया गया है।

शारदा अरोरा said...

bahut khoob

Mrs. Asha Joglekar said...

पहले तुमको देखा, और फिर
दिल का पागलपन देखा है

तुममें खुद को देखा अकसर
जब देखा, दरपन देखा है ।
ये रूमानी गज़ल बहुत अच्छी लगी ।

Patali-The-Village said...

बहुत अच्छी लगी ये गज़ल| धन्यवाद|

mahendra verma said...

तुममें खुद को देखा अकसर
जब देखा, दरपन देखा है

अक्सर ऐसा ही होता है।
बहुत खूबसूरत ग़ज़ल। मुबारकबाद।

Babli said...

मैं ज़रूरी काम में व्यस्त थी इसलिए पिछले कुछ महीनों से ब्लॉग पर नियमित रूप से नहीं आ सकी!
बहुत बढ़िया लिखा है आपने ! उम्दा प्रस्तुती!

Dr (Miss) Sharad Singh said...

बहुत खूब !...... हरेक शेर लाज़वाब..

arti jha said...

bahut khub kha aapne....ki aapne kebl man dekha hai....sir aapko bhut bhut badhai itni sundar rachna ke lie...kvi humare blog pe v padhare...

Babli said...

आपकी टिपण्णी और उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
आपके नए पोस्ट का इंतज़ार रहेगा!

Dr.Sushila Gupta said...

very nice.......

mridula pradhan said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
wah..bahut achche......

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

behtareen gazal...har sher lajwab.

सतीश सक्सेना said...

होली की शुभकामनायें स्वीकार करें !!

kshama said...

Holee bahut,bahut mubarak ho!

सुलभ said...

बहुत बहुत सुन्दर. लाजवाब कर दिया आपने शाहिद जी.
आपको होली की रंगारंग शुभकामनाये!!

प्रियदर्शिनी तिवारी said...

BAHUT HI KHOOBSOORAT LIKHA HAI AAPNE..HAM TAK PAHUCHANE KA SHUKRIYA

kalaam-e-sajal said...

तुमने क्या देखा, तुम जानो
मैंने तो बस मन देखा है
kya baat hai ... bahut khoob

Rajesh Kumari said...

mere dil me jhankne vaale kahte hain ki bachpan dekha hai....bahut khoobsurat bemisal panktiyan.her line ko bar bar padhne ko man karta hai.bahut bahut behtreen ghazal.